एक लड़की और 11 लड़के कर रहे थे ये गंदा काम…अब पहुँच गए जेल,जाने पूरा मामला।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

एक लड़की और 11 लड़के कर रहे थे ये गंदा काम…अब पहुँच गए जेल,जाने पूरा मामला। दिल्ली में बाहरी जिला पुलिस ने पश्चिम विहार इलाके में अमेरिकी नागरिकों से करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले एक फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़ किया है. पुलिस ने एक महिला समेत 12 जालसाजों को गिरफ्तार किया है. आरोपी खुद को माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का इंजीनियर बताकर समस्या का समाधान करने का झांसा देकर ठगी करते थे।

गिरफ्तार आरोपियों में विकासपुरी निवासी साहिल चटवाल, लाडपुर निवासी नवीन डबास, दिल्ली कैंट निवासी रविंदर, जहांगीरपुरी निवासी पीयूष, चंदर विहार निवासी गौतम, विजय विहार निवासी जफरशाह, बुध निवासी सुभाष शामिल हैं। विहार, लविश निवासी राजौरी गार्डन, आकाश निवासी मुरादाबाद, यूपी। यूपी के आगरा निवासी ऋषभ, यूपी के लखीमपुर खीरी निवासी शरद और एक महिला। पुलिस ने बताया कि आरोपी हर महीने करीब 5 करोड़ रुपये की ठगी कर रहे थे. फर्जी कॉल सेंटर पिछले दो साल से चल रहा था।

पुलिस को सूचना मिली थी कि पश्चिम विहार के मादीपुर इलाके में कुछ लोग फर्जी कॉल सेंटर चला रहे हैं. सूचना के आधार पर टीम ने 9 मई की सुबह एक घर में छापेमारी कर एक महिला समेत 12 लोगों को गिरफ्तार कर लिया. जांच में पता चला है कि आरोपी ऐप बीएसओडी, गूगल वॉयस, ब्राउजर लॉगिन, माइक्रो एसआईपी के जरिए नेट कॉलिंग के जरिए अमेरिकी नागरिकों से ठगी करते थे।

उनके कब्जे से 16 लैपटॉप, 12 लैपटॉप चार्जर, 2 वाईफाई राउटर, 9 हेड फोन और 13 मोबाइल फोन बरामद किए गए हैं। क्षेत्र में आए दिन साइबर ठगी के मामले होते रहते हैं। ऐसे में पुलिस समय-समय पर अलग-अलग थाना क्षेत्रों में लोगों को जागरूक करती रहती है. लोगों को भी इस संबंध में सावधानी बरतनी चाहिए।

आरोपी ऐप के जरिए अमेरिकी नागरिकों के सिस्टम को ब्लॉक कर देते थे। इसके बाद आरोपी पीड़िता को मदद के लिए बुलाता था। वह खुद को माइक्रोसॉफ्ट का इंजीनियर बताकर मदद के नाम पर डॉलर की मांग करता था। पैसे मिलने के बाद वह पीड़ितों का नंबर ब्लॉक कर देता था। पुलिस अधिकारी ने बताया कि गिरोह का सरगना साहिल चटवाल है, जो अपने साथी नवीन डबास के साथ फर्जी कॉल सेंटर चला रहा था.

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Leave a Comment